बच्चों की हड्डियां मजबूत बनाती है छाछ, जानें हेल्दी छाछ बनाने की रेसिपी और कमाल के फायदे

0
28

[ad_1]

बच्चों का शारीरिक विकास उनकी हड्डियों और स्वास्थ्य पर टिका होता है. अगर बच्चों की हड्डियां मजबूत रहेंगी, तो उनका शारीरिक विकास आसानी से होगा. बच्चों के स्वास्थ्य और हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए छाछ देनी चाहिए. छाछ का सेवन करने से बच्चों को कई स्वास्थ्य फायदे प्राप्त होते हैं. आइए इनके बारे में जानते हैं.

छाछ के फायदे: हड्डियां बनती हैं मजबूत
कंसल्टेंट डाइटिशियन डॉ. रंजना सिंह के मुताबिक छाछ एक डेयरी उत्पाद है, जिसे दही से बनाया जाता है. इसमें प्रचुर मात्रा में कैल्शियम होता है. दरअसल, बच्चे दूध पीने में आनाकानी करते हैं, इसलिए आप उन्हें छाछ का सेवन करवा सकते हैं. क्योंकि यह ज्यादा स्वादिष्ट होती है और बच्चे आसानी से इसका सेवन कर लेते हैं. छाछ में मौजूद कैल्शियम बच्चों की हड्डियों को मजबूती देता है, जिससे उनके शारीरिक विकास में मदद मिलती है.

ये भी पढ़ें: Health Tips: जब शरीर में होती है पोषण की कमी, तो बार-बार ये चीज खाने का करता है मन, जानें उपाय

बच्चों को छाछ पिलाने से पाचन बेहतर होता है
अक्सर बच्चों को पेट की समस्या होती रहती है, जिसे खत्म करने के लिए छाछ फायदेमंद हो सकती है. क्योंकि, छाछ का सेवन पाचन को बेहतर बनाता है और कब्ज, पेट दर्द व गैस जैसी समस्याओं से राहत मिलती है.

डिहाइड्रेशन से बचाती है छाछ
डॉ. रंजना सिंह कहती हैं कि दिनभर उछल-कूद करने से बच्चों में पानी की कमी हो सकती है. जिसके कारण उन्हें अत्यधिक थकान व कमजोरी महसूस हो सकती है. ऐसे में बच्चों को छाछ पीलाने से उनके शरीर में पानी की कमी नहीं होती है और उन्हें एनर्जी मिलती है.

ये भी पढ़ें: How to eat Fruits: लोग नहीं जानते फल खाने का सही तरीका, इसलिए नहीं मिलता पूरा फायदा

बच्चों में छाछ के फायदे: इम्युनिटी बढ़ती है
छाछ में लाभदायक बैक्टीरिया होते हैं. जो बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करते हैं. इसके अलावा, छाछ के अंदर विटामिन ए, सी, बी और विटामिन-के जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं.

बच्चों के लिए हेल्दी छाछ बनाने का तरीका
आप 1 कप दही लेकर उसमें 2 कप पानी के साथ ब्लेंड कर लें. इसके बाद दही बिल्कुल पतला और स्मूथ हो जाएं, तो उसमें स्वादानुसार काला नमक और एक चुटकी भुना हुआ जीरा डालकर बच्चे को पिलाएं.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.



[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here