कोरोना के नए लक्षण ने वैज्ञानिकों को किया परेशान, मरीजों को हो रही ये परेशानी

0
19


नई दिल्ली: आज पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में है. अब तक कोरोना के लिए न ही कोई वैक्सीन आई है और न ही कोई दवाई तैयार हुई है. कोरोना होने के लक्षण भी काफी सामान्य हैं, लेकिन समय-समय पर Symptoms बदल रहे हैं. कोरोना के आम लक्षण सांस की तकलीफ, थकान, खांसी (Cough) बुखार (Fever) हैं. लेकिन इन दिनों कोरोना के नए लक्षण देखने को मिल रहे हैं. इन नए लक्षणों में मछली की गंध और शरीर में जलन पाया गया है. 

कोरोना के नए लक्षण

स्मेल की परेशानी होना कोरोना के आम लक्षण (Symptoms) हैं.  ईएनटी सर्जन प्रोफेसर निर्मल कुमार ने स्काई न्यूज को बताया कि यह लक्षण बहुत ही अजीब था. कुमार ने कहा कि कितने रोगी गंध के लंबे समय तक विकृति का अनुभव कर रहे हैं, जिनमें से अधिकांश गंध है. इस बीमारी को दूर करने के लिए स्मेल ट्रेनिंग दी जा रही है, जिसमें नींबू, गुलाब, लौंग और नीलगिरी के तेल को शामिल किया जाता है.

यह भी पढ़ें- भूलकर भी Sex के दौरान न खाएं यह गोली, Study में हुए चौंकाने वाले खुलासे

इसके बाद गंध की परेशानी दूर हो जाती है. इससे पहले, वैज्ञानिकों ने यह समझने की कोशिश की थी कि कोरोना के मरीजों में ये लक्षण लंबे समय तक क्यों रहते हैं, जिसे आमतौर लॉन्ग कोविड (long COVID) कहा जाता है.

पेरोस्मिया से लोग हो रहे पीड़ित

इस असामान्य साइड-इफेक्ट (दुष्प्रभाव) को पेरोस्मिया के रूप में जाना जाता है. इसमें लोगों की सूंघने की क्षमता बिगड़ जाती है. ये लक्षण युवाओं और स्वास्थ्य कर्मियों में देखने को मिल रहा है. दरअसल, मार्च के महीने में डॉक्टरों की एक टीम ने कोरोना वायरस के एक प्रमुख लक्षण के रूप में एनोस्मिया यानी सूंघने की क्षमता में कमी की पहचान की थी. इस टीम में प्रोफेसर निर्मल कुमार भी शामिल थे.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्होंने बताया कि ब्रिटेन में लंबे समय से कोरोना के हजारों मरीज एनोस्मिया का इलाज करा रहे हैं और इनमें से कुछ लोगों को पेरोस्मिया का भी अनुभव हो रहा है.

सेहत से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here