सुशांत केस: ‘पुलिस से 2 माह में लिया गया केस, 4 महीने बाद CBI बताए जांच में क्या मिला’

0
20


सुशांत सिंह राजपूत और रिया चक्रवर्ती.

Sushant Singh Rajput: रिया के वकील सतीश मानेशिंदे ने कहा कि, ‘दो महीने के भीतर अपनी जांच के निष्कर्ष नहीं बताने के लिए मुंबई पुलिस से जांच वापस ले ली गई थी, जबकि सीबीआई जांच अभी भी चल रही है. मुंबई पुलिस ने जांच में 2 महीने का समय लिया और रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं कर पाई.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 28, 2020, 5:06 PM IST

मुंबई. महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने रविवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो से सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) की जांच रिपोर्ट जारी करने की रिक्वेस्ट की थी. उन्होंने पूछा था कि सीबीआई (CBI) यह बताए कि सुशांत सिंह राजपूत की हत्या हुई थी या उन्होंने आत्महत्या की थी. सोमवार को सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के वकील ने उनके बयान का समर्थन किया है. रिया के वकील सतीश मानेशिंदे ने कहा, ‘मैं महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के बयान का स्वागत करता हूं, जिन्होंने सीबीआई से सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग की है.’

मानेशिंदे ने कहा कि, ‘दो महीने के भीतर अपनी जांच के निष्कर्ष नहीं बताने के लिए मुंबई पुलिस से जांच वापस ले ली गई थी, जबकि सीबीआई जांच अभी भी चल रही है. मुंबई पुलिस ने जांच में लगभग 2 महीने का समय लिया और रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं कर पाई. जुलाई 2020 में रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार पर झूठे आरोप लगाते हुए पटना में एक एफआईआर दर्ज की गई. पटना पुलिस सहित मुंबई पुलिस, ईडी, एनसीबी और सीबीआई ने रिया चक्रवर्ती के खिलाफ जांच की है.’

सतीश ने अपने बयान में आगे कहा कि, ‘रिया चक्रवर्ती को एनसीबी ने बिना किसी सबूत के संगीन मामले में गिरफ्तार कर लिया. उसे विभिन्न एजेंसियों द्वारा परेशान किया गया और लगभग एक महीने तक हिरासत में रखा गया, जब तक कि बॉम्बे हाई कोर्ट ने उसे जमानत पर रिहा नहीं कर दिया. रिया ने एक एफआईआर दर्ज कराई, जिसमें एसएसआर की बहनों पर गैरकानूनी तरीके से चिकित्सकीय सलाह के बिना एक फर्जी पर्चे के आधार पर एक्टर को दवाइयां देने का आरोप लगाया. उन्होंने आरोप लगाया कि ड्रग्स के कॉकटेल और अवैध रूप से दवाएं खाने के कारण से सुशांत की मौत हो सकती है.’

वकील ने आगे कहा कि, ‘सुशांत की मौत को 6 महीने से अधिक समय हो गया है. उन्होंने कहा, ‘मैंने हमेशा कहा है कि सत्य वही रहेगा, चाहे मामले की जांच कोई भी करे. जो भी परिस्थितियां हों, देश की प्रीमियर जांच एजेंसी सीबीआई को 4 महीने की जांच के बाद अपने निष्कर्षों के साथ सामने आना चाहिए. यह इस दुखद घटना की सच्चाई जानने के लिए बहुत बड़ा समय है. सत्यमेव जयते.’ सुप्रीम कोर्ट ने 19 अगस्त 2020 को पटना में दर्ज प्राथमिकी को सीबीआई को स्थानांतरित करने का फैसला बरकरार रखा था.देशमुख ने रविवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) से यह बताने का आग्रह किया कि क्या बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत आत्महत्या थी या हत्या. उन्होंने कहा कि सीबीआई को मामले में जल्द से जल्द अपनी जांच रिपोर्ट सामने लानी चाहिए.

देशमुख ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था, सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच पर महाराष्ट्र और देश के लोग सीबीआई की रिपोर्ट का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. लोग मुझसे मामले की स्थिति के बारे में पूछते हैं … मैं सीबीआई से यह बताने का अनुरोध करता हूं कि यह आत्महत्या थी या हत्या.’

उन्होंने कहा था, ‘इस मामले को सीबीआई को सौंपे हुए पांच से छह महीने बीत चुके हैं. इसलिए एजेंसी को यह स्पष्ट करने के लिए जल्द से जल्द अपनी रिपोर्ट सार्वजनिक करनी चाहिए कि क्या यह आत्महत्या थी या हत्या.’ सुशांत को इस साल 14 जून को मुंबई के बांद्रा में अपने अपार्टमेंट में मृत पाया गया था. इससे पहले, मुंबई पुलिस ने इस मामले में आकस्मिक मौत की रिपोर्ट दर्ज की थी और वह मामले की जांच कर रही थे.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here