ब्राउन शुगर से बढ़ाएं खाने की मिठास, जानें सेहत के लिए है कितनी फायदेमंद

0
21


अधिकतर लोग मीठा खाने के शौकीन होते हैं. ऐसे में ज्यादातर मीठे पकवान चीनी के इस्तेमाल से ही बनाए जाते हैं. यह भी एक सच्चाई है कि चीनी का ज्यादा इस्तेमाल सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है क्योंकि चीनी में बहुत अधिक मात्रा में कैलोरी होती है. ऐसे में यदि हमारी दिनचर्या बहुत अधिक शारीरिक मेहनत करने वाली नहीं है तो चीनी शरीर को नुकसान भी पहुंचा सकती है. ऐसे में इन दिनों सामान्य शक्कर के स्थान पर ब्राउन शुगर (Brown Suger Consumption) का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है.

चीनी से कैसे अलग है ब्राउन शुगर

चीनी, गुड़ आदि गन्ने से तैयार किए जाते हैं, लेकिन चीनी मिलों में जब शक्कर तैयार की जाती है तो उसे साफ करने और ज्यादा मिठास पाने के लिए कई प्रकार के केमिकल मिलाए जाते हैं. चूंकि गुड़ प्राकृतिक रूप है, लेकिन केमिकल डालकर जब और अधिक मिठास वाले तत्व एकत्रित करते हैं तो शक्कर में मिठास बढ़ती है. इसी कारण शक्कर में कैलोरी की मात्रा भी बढ़ जाती है, वहीं इसमें उपयोग किए जाने वाले केमिकल के साइड इफेक्ट का खतरा बना रहता है. वहीं ब्राउन शुगर (Brown Suger)वास्तव में गुड़ (Jaggery)का ही एक शुद्ध रूप होता है. वास्तव में यह गुड़ और शक्कर के बीच का एक रूप है, जिसे बगैर केमिकल तैयार किया जाता है और सेहत के लिए फायदेमंद भी होती है.

पोषक तत्वों से भरपूर होती है ब्राउन शुगरmyUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, ब्राउन शुगर को साधारण चीनी की तरह कई प्रक्रियाओं से होकर नहीं गुजरना पड़ता है, यानी इसे रिफाइंड नहीं किया जाता है. इसीलिए इसमें पोषक तत्व बने रहते हैं. ब्राउन शुगर में लो कैलोरी होती है. इसमें आयरन, कैल्शियम, पोटैशियम, जिंक, कॉपर, फास्फोरस, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन बी के साथ-साथ और भी कई तत्व पाए जाते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं. दूसरी ओर साधारण चीनी के रिफाइंड होने के कारण इसके बहुत से तत्व खत्म हो जाते हैं. इसमें मात्र कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट ही रह जाते हैं, इसलिए यह शरीर के लिए लाभकारी नहीं होती है.

चीनी और ब्राउन शुगर का सेहत पर असर

चूंकि, चीनी में कार्बोहाइड्रेड बहुत अधिक मात्रा में होता है, इसलिए शुगर के ज्यादा सेवन से शरीर को कैलोरी भी अत्यधिक मात्रा में मिलती है. इन दिनों शहरी जीवन में तो अधिकतर लोगों की जीवनशैली ज्यादा शारीरिक मेहनत वाली नहीं रही. ऐसे में चीनी के अधिक इस्तेमाल से वजन बढ़ने के साथ-साथ, कोलेस्ट्रोल बढ़ने और शुगर लेवल बढ़ने जैसी समस्याएं भी होने लगती हैं. इसलिए चीनी खाने की बजाय ब्राउन शुगर का इस्तेमाल स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं होता.

सर्दी-जुकाम में लाभदायक

ब्राउन शुगर का इस्तेमाल सर्दी-जुकाम जैसी बीमारियों में सदियों से होता रहा है. यदि एक ग्लास गर्म पानी में अदरक के टुकड़े और कुछ मात्रा में ब्राउन शुगर मिलाकर सेवन किया जाए तो सर्दी जुकाम में तत्काल राहत मिलती है.

दमे के रोगियों के लिए भी फायदेमंद

ब्राउन शुगर दमे के रोगियों के लिए भी फायदेमंद होती है, क्योंकि इसमें एंटी एलर्जिक गुण पाए जाते हैं. यदि इसका नियमित सेवन किया जाए तो अस्थमा के लक्षण धीरे-धीरे कम होने लगते हैं.

नवजात बच्चों में नहीं होती गैस की समस्या

myUpchar के अनुसार, यदि छोटे बच्चे दूध पीते हैं तो उनकी दूध की बॉटल में सामान्य शक्कर के स्थान पर ब्राउन शुगर का इस्तेमाल करना ज्यादा लाभदायक होगा. क्योंकि ऐसा करने से बच्चों में गैस की समस्या भी नहीं होती है और दूध आसानी से पच जाता है. हालांकि, छोटे बच्चों के मामले में पहले डॉक्टर की सलाह लेना ठीक होगा. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, क्या डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है ब्राउन शुगर? पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here