Gandhi Jayanti 2020: जानिए- बापू के जीवन का अंतिम काम, जब सांप्रदायिक हिंसा खत्म कराने गए थे दिल्ली की दरगाह

0
24



<p style=”text-align: justify;”><strong>नई दिल्ली:</strong> राष्ट्रपिता महात्मा गांधी 18 जनवरी 1948 को अपना अंतिम उपवास समाप्त करने के ठीक नौ दिन बाद और 30 जनवरी 1948 को अपनी हत्या से तीन दिन पहले दिल्ली में शांति लाने के उद्देश्य से महरौली स्थित कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी दरगाह गए थे. उस समय



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here