दूध पचने में होती है दिक्कत? लैक्टोज इनटॉलरेंस की समस्या तो नहीं…

0
159


कई लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि उन्हें दूध पीना सूट नहीं होता या उन्हें दूध पचता नहीं है. ऐसे कई लोग होते हैं, जिन्हें दूध पीने या डेयरी उत्पादों के सेवन में असहजता होती है. ऐसे लोग लैक्टोज इनटॉलरेंट हो सकते हैं. लैक्टोज एक प्रकार की चीनी है जो स्तनधारियों के दूध में स्वाभाविक रूप से पाई जाती है और दूध में कैलोरी का मुख्य स्रोत भी होती है. लैक्टोज दूध व दूध से बने उत्पादों में पाया जाता है. शरीर लैक्टोज नाम के एंजाइम का इस्तेमाल करता है जो शुगर को तोड़ने में मदद करता है. ताकि शरीर में ये पदार्थ अच्छे से अवशोषित हो जाए, लेकिन जो लोग लैक्टोज इनटॉलेरेंस से पीड़ित होते हैं उनके शरीर में पर्याप्त मात्रा में लैक्टेज नहीं होता. लैक्टोज छोटी आंत में बनता है.

myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अनुराग शाही का कहना है कि कई लोगों में इस एंजाइम का स्तर कम होता है लेकिन वे दूध और उससे बने उत्पाद आसानी से पचा लेते हैं. वहीं जो लोग लैक्टोस इनटॉलरेंस से ग्रसित हैं उनमें दूध या दूध से बने उत्पाद का सेवन करने पर कुछ लक्षण दिखने लगते हैं. लैक्टोज इनटॉलरेंस का फिलहाल कोई इलाज उपलब्ध नहीं है लेकिन ऐसे पदार्थ लेना जिनमें लैक्टोज की मात्रा कम हो, लक्षणों से कुछ आराम दिला सकता हैं.

पेट दर्दलैक्‍टोज इनटॉलरेंस पेट संबंधी तकलीफों का कारण बनता है. यह स्थिति पेट से ही शुरू होती है. लैक्टोस इनटॉलरेंस होने पर पेट में ऐंठन और दर्द की समस्या होती है. लैक्टोज इनटॉलरेंस के साथ पेट में दर्द और पेट फूलना आम है. यह तब होता है, जब कोलोन में बैक्टीरिया लैक्टोज का फरमेंटेशन करते हैं, जो शरीर ने अधपचा छोड़ दिया है. दर्द अक्सर नाभि और निचले पेट के आसपास होता है.

उल्‍टी की समस्‍या

दूध की एलर्जी वाले व्यक्ति को पेट की समस्‍या के साथ-साथ उल्‍टी और मतली की दिक्कत भी हो सकती है. ऐसे लोग जैसे ही किसी प्रकार के डेयरी उत्‍पाद का सेवन करते हैं तो उन्‍हें उल्‍टी और मतली की समस्‍या शुरू होने लगती है. जब तक पेट से सारा दुग्‍ध उत्‍पाद बाहर नहीं निकल जाता तब तक उल्‍टी की शिकायत हो सकती है.

अन्य लक्षणों में ये भी हैं शामिल

  • सिर दर्द
  • थकान
  • एकाग्रता में कमी
  • मांसपेशियों और जोड़ों का दर्द
  • मुंह के छाले
  • पेशाब में समस्या
  • खुजली

दस्त

लैक्टोज इनटॉलरेंस दस्त का कारण बन सकती है या इसके बाद बार-बार शौच जाना पड़ सकता है. यह तब होता है जब पेट में बिना पचा हुआ लैक्टोज फरमेंट होता है, जिससे शॉर्ट-चेन फैटी एसिड का उत्पादन होता है जो आंत में पानी की मात्रा को बढ़ाता है.

गैस बनना

पेट में लैक्टोज का पाचन पेट फूलने की वजह बन सकता है. लैक्टोज के फरमेंटेशन से उत्पन्न गैस गंधहीन होती है.

कब्ज

कब्ज लैक्टोज इनटॉलरेंस का एक दुर्लभ लक्षण है. यह कोलोन में मीथेन उत्पादन की वृद्धि के कारण माना जाता है, जो आंत में संक्रमण के समय को धीमा कर देता है.

जिन लोगों को दूध या इससे बनी चीजें नहीं पचती हैं, वे इनसे दूर जरूर रहें, लेकिन एक बार डॉक्टर को जरूर दिखा लें. हो सकता है कि समय पर इलाज मिलने के बाद समस्या हल हो जाए. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, लैक्टोज इनटॉलरेंस क्या है, लक्षण, कारण, बचाव, इलाज और दवा पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here