ये है भारतीय महिला हॉकी टीम का नया टारगेट, गोलकीपर सविता ने किया खुलासा

0
45


नई दिल्ली. भारतीय महिला हॉकी टीम ने पिछले कुछ समय में इंटरनेशनल प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन करके दिखाया है. खासतौर पर एफआईएच सीरीज फाइनल्स और एफआईएच हॉकी ओलंपिक क्वालीफायर्स में पिछले साल भारतीय महिलाओं के प्रदर्शन ने टीम को वर्ल्ड रैंकिंग में भी अच्छी सफलता दिलाई है. फिलहाल भारतीय महिलाएं 9वें स्थान पर हैं. लेकिन टीम की गोलकीपर सविता का कहना है कि टीम इससे भी आगे जा सकती है. उन्होंने बताया कि टीम ने कोविड-19 के दौर के बाद अपने लिए क्या नया टारगेट तय किया है.

वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप-5 में आना है टारगेट
सविता ने बताया कि टीम ने अगले दो साल के दौरान वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप-5 की बाधा को तोड़ने का टारगेट अपने लिए तय किया है. उन्होंने कहा, हमने पिछले 3-4 साल में निश्चित तौर पर टीम के रूप में तरक्की की है. इस दौरान टीम के सभी आधारों पर मेहनत की गई है. हमने पूरे विश्व में कुछ बेस्ट कोच के साथ मेहनत की है और इसके चलते हम हालिया समय में टॉप टीमों को चुनौती देने में सफल रहे हैं. हॉकी इंडिया (HOCKEY INDIA) और भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) की तरफ से मिल रहे अनवरत सहयोग की बदौलत हम निश्चित तौर पर अगले दो साल में एफआईएच रैंकिंग के टॉप-5 में पहुंचने में सफल रहेंगे.

रातोरात नहीं किया जा सकता शानदार प्रदर्शन
हरियाणा के सिरसा की रहने वाली सविता ने कहा, अच्छा खेल रातोरात नहीं दिखाया जा सकता. अच्छे परिणाम हासिल करने के क्रम में गहन योजना बनाना और यह सुनिश्चित करना कि हमारी टीम रोजाना आगे बढ़े, ये अहम फैक्टर का काम करते हैं. उन्होंने कहा, हम निश्चित तौर पर अपनी परफॉर्मेंस के लिए कड़ी मेहनत करते हैं. हालांकि मैं हॉकी इंडिया को एक अच्छा प्रशिक्षण ढांचा लागू करने के लिए श्रेय देना चाहूंगी. हॉकी इंडिया ने हमें बेहतरीन कोच उपलब्ध कराए हैं, हमारे फिजिकल फिटनेस शेड्यूल का ध्यान रखा जाता है और हमें निश्चित खानपान का पालन करना पड़ता है. हॉकी इंडिया की तरफ से नेशनल कोचिंग कैंप और टूर्नामेंटों की पिछले कुछ साल से बेहतरीन योजना तैयार की जा रही है, जिससे खिलाड़ियों को बेहतरीन खेल दिखाने में मदद मिलती है.

लंबे समय तक खेल से दूर रहना कठिन रहा
पिछले कुछ महीने के दौरान खेलों को कोराना वायरस महामारी के कारण बंद रखना पड़ा है. इसके चलते भारतीय महिला हॉकी टीम को भी रिसेट बटन दबाना पड़ा है और इस साल मार्च में टीम जिस फॉर्म में थी, उसे वापस पाने की बड़ी चुनौती सामने खड़ी है. इस बात को सविता भी मानती हैं. वेटरन गोलकीपर ने कहा, एक लंबे समय तक खेल से दूर रहना बेहद कठिन होता है. लेकिन अब हमें अपनी खेल गतिविधियां दोबारा शुरू करने और क्रमबद्ध तरीके से आगे बढ़ना है. मुझे शक नहीं है कि हम कुछ समय में ही दोबारा अपनी पीक फॉर्म में पहुंच जाएंगे. बंगलूरू स्थित साई एक्सीलेंस सेंटर में हॉकी प्रशिक्षण को दोबारा चालू कराने के लिए हॉकी इंडिया और साई हर संभव प्रक्रिया अपना रहे हैं. हमें बस अपने समर्पण को बरकरार रखना होगा, परिणाम खुद ही मिल जाएंगे.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here