रिया चक्रवर्ती की जमानत अर्जी फिर खारिज, ड्रग सिंडिकेट से जुड़े हैं तार

0
51


नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) ड्रग्स मामले में एनसीबी ने सेशन कोर्ट को बताया कि आरोपी शोविक ने अपने ब्यान में ये माना है कि वो ड्रग्स का बंदोबस्त करने के लिए अब्दुल परिहार के जरिये आरोपी कैजान इब्राहिम और आरोपी जैद से सुशांत के लिए ड्रग्स मंगवाते थे. ड्रग्स की डिलीवरी और पेमेंट की पूरी जानकारी रिया चक्रवर्ती को होती थी. कई बार तो सुशांत की पसंद की ड्रग्स का पेमेंट भी रिया ही करती थी.

रिया के कहने पर ड्रग्स मंगवाते थे सैमुअल मिरांडा
सैमुअल मिरांडा ने एनसीबी को दिए अपने ब्यान में बताया कि वो और दीपेश सावंत सुशांत के कर्मचारी थे. सैमुअल ने माना कि वो सुशांत और रिया के कहने पर ड्रग्स को मंगवाकर जमा करते थे. ड्रग्स पर किए गए पैसों के खर्च का हिसाब रिया रखती थी. आरोपी दीपेश सावंत ने भी एनसीबी के सामने ये कबूल किया कि वो सुशांत के कहने पर ड्रग्स की डिलीवरी लेता था. कई बार रिया ने भी उसको ड्रग्स की डिलीवरी लेने के लिए निर्देश दिए थे.

ड्रग सिंडिकेट के एक्टिव मेंबर हैं सभी आरोपी
जिसके बाद एनसीबी ने रिया चक्रवर्ती को समन भेजकर पूछताछ के लिए 6, 7 और 8 सितंबर को बुलाया था, इस दौरान रिया का आमना-सामना सभी आरोपियों से करवाया गया. रिया ने एनसीबी को दिए अपने ब्यान में अपनी भूमिका को माना कि वो सुशांत के लिए ड्रग्स को खरीदने के लिए ना सिर्फ पैसे देती थीं, बल्कि सुशांत के लिए ड्रग्स को जमा कर के भी रखती थीं. रिया ने माना कि वो सैमुअल मिरांडा, दीपेश सावंत और शोविक को ड्रग्स खरिदने के दिशा निर्देश देती थीं. एनसीबी ने अदालत को बताया कि सभी के सभी आरोपी एक ड्रग सिंडिकेट के एक्टिव मेंबर है.

रिया के वकील की दलील
रिया के वकील सतीश मानेशिन्दे ने अदालत को बताया कि उनकी क्लाइंट निर्दोष है, वो एक जानी मानी मॉडल, और फिल्म अभिनेत्री हैं. उन्होंने कोई गुनाह नहीं किया है, उनको जानबूझकर फंसाया जा रहा है. इस केस में सिर्फ 59 ग्राम गांजा ही बरामद हुआ है, जिसकी मात्रा बेहद कम है लिहाजा उनके ऊपर NDPS की धारा 27A नहीं लगाई जा सकती. वो सिर्फ ड्रग्स अपने बॉयफ्रेंड के लिए मंगवाती थी जिसके लिए उन्होंने कभी भी पैसे नहीं दिए इसलिये उनको ड्रग सिंडिकेट का एक्टिव मेंबर और ड्रग्स सप्लाई से जुड़ा होना, बोलना गलत होगा.

कोर्ट ने जमानत अर्जी की खारिज
सेशन कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अपने 16 पन्नोंं के आदेश में रिया की जमानत अर्जी खारिज करते हुए ये माना कि रिया ड्रग्स सिंडिकेट का हिस्सा हैं. ऐसे में अगर उनको जमानत दी जाएगी तो वो ड्रग्स पैडलर्स को अलर्ट कर सकती हैं, सबूतों के साथ छेड़छाड़, जांच को भी प्रभावित कर सकती हैं. ऐसे में जब जांच अपने प्रारंभिक दौर में है तो आरोपी को जमानत नहीं दी जा सकती है.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here